Monday, September 1, 2014

14. Balmeer is ancient name of Barmer


थार-पारकर और बाड़मेर,राजस्थान का मरुस्थल एशिया के "thar desert zone"में आता है। वर्तमान गुजरात का कुछ इलाका और राजस्थान के कुछ जिले पाकिस्तान के कुछ क्षेत्र के साथ थार-पारकर इलाका कहा जाता था।
वर्तमान बाड़मेर थार का ही हिस्सा है। जहाँ कोई लोग न हो और पेड़-पौधे भी न होउसे 'रोहीया 'रिण-रोहीकहा जाता था। पहाड़ को 'मेरमेर कहते है।
जैसा मैंने पहले एक पोस्ट में बताया कि बाड़मेर का वर्त्तमान नाम प्रचलन में आने से पहले इसको 'बाल-रिखकी तपस्या भूमि के कारण 'बाल मेरकहते थे। निश्चित रूप से 19वीं शताब्दी के प्रारंभ तक इसका यही नाम था।
एकदो मित्रों ने इस नाम हेतु कुछ सवाल किये थे। अतः एक सन्दर्भ दे रहा हूँनोट करले। वह है लेफ्टिनेंट अलेक्सबुर्नेस (lieutenant Alex. Burned), जिसे एक-दो पोस्ट में और उद्धृत किया है।
एलेग्जेंडर बुर्नेस ब्रिटिश सेना में बॉम्बे आर्मी में थे। उन्हें पश्चिमोत्तर भारत के भूगोल का सर्वे करने का आदेश मिलने पर उन्होंने इन क्षेत्रों का दौरा किया और उसका रिकार्ड किया। विभिन्न जानकारियों के साथ उन्होंने ब्रिटिश सरकार को अपनी रिपोर्ट दी।
एक पेपर " Papers descriptive of the countries on north- west frontier of India- the thurr(थार), or desert, Joodpoor and Jaysulmeer(जैसलमेरके नाम से तैयार किया। जो जर्नल ऑफ़ रॉयल ज्योग्राफिकल सोसाइटी ऑफ़ लन्दन के वॉल्यूम-4 में पृष्ठ 88 से129 पर सन 1834 में छपा। यह शोध पत्र 10अप्रैल 1834 को पढ़ा गया।
उसमे बाड़मेर का नाम 'बालमेरही उल्लेखित है। इससे स्पष्ट है कि तब तक यह क्षेत्र 'बाल रिखके नाम से ही जाना जाता था। देखे:
" The predominating a tribe in Parker is Cooley, a set of-----there is tradition in a district that these were formerly very numerous.-- ----Brahman--- with rajpoot of Maldee and other tribes, a few Belooch mahommedan, mynnas and some Megwars, or out castes, makeup the population to about eight thousand." Page-93.
"The soda took their name from one of their chief, after a bloody and unsuccessful battle with the mahommadans, in which many thousands of them are said to have perished near Kayraro, in the hills of "BALMEER." From that tone purwars were sub divided into 35 tribes or "saks", page- 98,
It is said-----,when on a journey to "BALMEER" in the desert, he saw-----" page-98
इससे व अन्य श्रोतों से बाड़मेर के पुराने नाम "बालमेरका हमें पता चलता है।
किसी भी जगह का प्राचीन इतिहास जानने के लिए जरुरी है कि पहले उसके प्राचीन नाम को जान ले और उसके भूगोल को जान लें। अन्यथा सब कुछ गड़बड़ा जायेगा।

Reference: as cited above सन्दर्भ पहले ही बता दिया।



1 comment: