Monday, September 1, 2014

17. Meghs- Inhabitants of Satluj, Ravi and Chinab- Cunningham


जनरल कन्निंघम ने मेघों को अर्रियन के mechioi से समीकृत किया है। कन्निंघम ने आर्कियोलॉजिकल रिपोर्ट्स के वॉल्यूम-2, के पेज 11f पर उन्हें कृषि कार्यों में संलग्न निम्न जाति का वर्णित किया है। जो अलक्षन्देर (Alexander) के आक्रमण के समय सतलुज के उपरी मुहाने के निवासी थे। संभवतः मेखोवाल क़स्बे का नाम उनके कारण ही पड़ा। वे अभी भी रावी और चिनाब नदियों के इलाको में निवास करते है। सियालकोट में उनका बाहुल्य/आधिपत्य है। व्यवहारिक तौर पर वे हिन्दू है।

बीकानेर और सिरसा में कोई व्यक्ति चमार से खुश होता हैतो उसे मेघवाल पुकारता है। और अगर नाराज होता है तो उसे ढेढ़ कहता है। बागर के चमार कहते है कि वे मेघ रिख के वंशज हैजिसे नारायण ने पैदा किया था।

"General Cunningham is inclined to identify them with mechioi of Arrian, and has an interesting note on them at page 11f, volume-2 of his Archaeological Reports, in which he described them as an inferior caste of cultivators, who inhabitated the banks of the upper Sutluj at the time of Alexander's invasion, and probably gave their name to the town of Mekhowal. They seem present to be almost confined to upper valleys of the RaVi and Chanab, and their stronghold in the sub-montane portion of Sialkot lying between two rivers. They are practically all Hindus."


"In Bikaner and Sirsa a man who is pleased with a chamar calls him meghwal, just as he calls him dherh if he is angrily with him. The chamar of Bagar say they are descended from Meg Rikh, who was created by Narain."

1 comment:

  1. 17. Megh : Inhabitants of Satluj, Ravi and Chinab- Cunningham

    ReplyDelete