Monday, September 1, 2014

19. Sir Cunningham and Meghs


यहाँ नीचे Alexander Cunningham द्वारा मेघो के इतिहास के बारे में और उनकी ethnology के बारे में "Archaeological Survey of India: four reports during the years 1862-63-64-65, volume-2 के पेज संख्या 11 से 13 का विवरण ज्यों का त्यों दे रहा हूँ। यह रिपोर्ट गवर्नमेंट सेंट्रल प्रेसशिमला से 1871 में प्रकाशित हुई थी।
Sir Alexander Cunningham (23 January 1814 – 28 November 1893)
Megs.
"Connected with the Takkas by a similar inferiority of social position is the tribe of Megs, who form a large part of the population of Riyasi, Jammu, and Aknur. According to the annals of the Jammu Rajas, the ancestors of Gulab Singh were two Rajput brothers, who, after the defeat of Prithi Raj, settled on the bank of the Tohi or Tohvi River amongst the poor race of cultivators called Megs. Mr. Gardner calls them "a poor race of low caste," but more numerous than the Takkas.t In another place he ranges them amongst the lowest class of outcasts ; but this is quite contrary to my information, and is besides inconsistent with his own description of them as "cultivators." They are but little inferior, if not equal, to Takkas. I have failed in tracing their name in the middle ages, but I believe that we safely identify them with the Mekei of Aryan, who inhabited the banks of the River Saranges near its confluence with the Hydraotes.J This river has not yet been identified with certainty, but as it is mentioned immediately after the Hyphasis or Bias, it should be the same as the Satlaj. In Sauskrit the Satlaj is called Satadru, or the " hundred channeled," a name which is fairly represented by Ptolemy's Zaradrus, and also by Pliny's Hesidrus, as the Sanskrit Sata becomes Hata in many of the W. Dialects. In its upper course the commonest name is Satrudr or Satudr, a spoken form of Satudra, which is only a corruption of the Sanskrit Satadru. By many Brahmans, how ever, Satudra is considered to be the proper name, although from the meaning which they give to it of "hundred- bellied," the correct form would be Satodra. Now Arrian's Saranges is evidently connected with these various readings, as Satdnga means the '* hundred divisions," or " hundred parts," in allusion to the numerous channels which the Satlaj takes just as it leaves the hills. According to this identification the Mekei, or ancient Megs, must have inhabited the banks of the Satlaj at the time of Alexander's invasion. In confirmation of this position, I can cite the name of Megarsus, which Dionysius Periegetes gives to the Satlaj, along with the epithets of great and rapid.* This name is changed to Cymander by Aoienus, but as Priscian preserves it unaltered, it seems probable that we ought to read Mycander, which would assimilate it with the original name of Dionysius. But whatever may be the true reading of Avienus, it is most probable that we have the name of the Meg tribe preserved in the Megarsus River of Dionysius. On comparing the two names together, I think it possible that the original reading may have been Megandros, which would be equivalent to the Sanskrit Megadru, or river of the Megs. Now in this very part of the Satlaj, where the river leaves the hills, we find the important town of Makhowdl, the town of the Makh or Magh tribe, an inferior class of cultivators, who claim descent from Raja Mukh- tesar, a Sarsuti Brahman and King of Mecca ! " From him sprang Sahariya, who with his son Sal was turned out of Arabia, and migrated to the Island of Pundri; eventually they reached Mahmudsar, in Barara, to the west of Bhatinda, where they colonised seventeen villages. Thence they were driven forth, and, after sundry migrations, are now settled in the districts of Patiala, Shahabad, Thanesar, Ambala, Mustafabad, Sadhaora, and Muzafarnagar."* From this account we learn that the earliest location of the Maghs was to the westward of Bhatinda, that is, on the banks of the Satlaj. At what period they were driven from this locality they know not ; but if, as seems highly probable, the Magiaus whom Timur encountered on the banks of the Jumna and Ganges were only Maghs, their ejectment from the banks of the Satlaj must have occurred at a comparatively early period. The Megs of the Chenab have a tradition that they were driven from the plains by the early Muhammadans, a statement which we may refer either to the first inroads of Mahmud, in the beginning of the eleventh century, or to the final occupation of Lahor by his immediate successors. 3. Other
* Orljis DcsLTi1itio, V. 1145.
• Smith's Rcv1ning Family of Lahor, p. 232, and Appendix p. xxix. In the text he m.'iti* the " Tukkers" Hindus, but in the Appendix he calls the " Tuk" a " brahman caste." The two names are, however, most probably not the same. t Ibid, pp. 232, 201, and Appendix p. Xxix."


Alexander Cunningham and Megh – एलेग्ज़ांडर कन्निंघम और मेघ

कुछ वर्ष पूर्व मैंने एक प्रहसन के रूप में मेघों का इतिहास लिखते हुए कल्पना की थी कि मेघों ने ही सिकंदर का रास्ता रोका थामेरी कल्पना का आधार यह था कि उस क्षेत्र में तब मेघ बहुतायत से बसे थेकुछ लोगों ने शायद पढ़ा होपता नहींलेकिन जिनसे मैंने इस बारे में बात की या प्रश्न पूछा उन्होंने कोई उत्साह नहीं दिखायालेकिन मुझे प्रहसन लिख कर संतोष हुआ.

कहते हैं कि इतिहासइतिहासकार और कथाकार हमेशा रहते हैंइस बीच राजस्थान से मेघवंश के इतिहासकार श्री ताराराम ने "मेघवंश इतिहास और संस्कृतिनामक पुस्तक लिखी जो मेरी दृष्टि से मेघों का एक प्रामाणिक इतिहास प्रस्तुत करती हैउनसे एक दिन फोन पर बात करते हुए मैंने पूछा कि क्या जम्मू के पास झेलमसतलुज के बीच के क्षेत्र में मेघों का सिकंदर से कोई सामना नहीं हुआउन्होंने कहा कि सर एलैग्ज़ांडर कन्निंघम ने ऐसे संकेत दिए हैंमैंने बहुत कोशिश की लेकिन मुझे कन्निंघम की पुस्तक नहीं मिलीकर्नल तिलक राज (Col. Tilak Raj) और श्री आर.एलगोत्रा (R.L. Gottra) जी से भी बात हुईइतना मालूम पड़ा कि लॉर्ड कन्निंघम की पुस्तक में मेघों का उल्लेख है.

कुछ दिन पूर्व ताराराम जी ने कन्निंघम की पुस्तक का वह अंश फेसबुक पर शेयर किया और मुझे भी अग्रेषित कर दियाएक लिंक भी भेजापहली बार मुझे वे अंश पढ़ने को मिले और मैं अपनी खुशी को रोक नहीं पायासबसे पहले मैंने उसे www.meghnet.in पर बनाए पृष्ठ Historians Tell पर शामिल किया और अलग से एक ब्लॉग लिखने की तैयारी शुरू कर दीमेरी कल्पना के घोड़े बहुत जंगली हैं और जब वे हिनहिनाते हैं तो मैं दौड़ने लगता हूँघोड़ों पर मेरा वश नहीं लेकिन दौड़ने पर है.

कन्निंघम ने जो लिखा है वह ज़रा पुरानी अंग्रेज़ी में लिखा है और उस विद्वान ने ग्रीक और अन्य भाषाओं के ऐसे कई शब्द भी प्रयोग किए हैं जिन्हें सही प्रतिनिधि ध्वनि के साथ देवनागरी में लिखना मेरे लिए कठिन था इसलिए उनके आगे (कोष्ठकों मेंउनकी अंग्रेज़ी वर्तनी (spellings) दे दी हैकन्निंघम ने क्या कहा है उसका लगभग एक स्वतंत्र अनुवाद नीचे दिया है.

"मेघ
सामाजिक स्थिति में समान कमतरी similar inferiorityवाले टकों (Takkas) से जुड़ा एक कबीला मेघों का है जो रियासीजम्मू और अख़नूर की जनसंख्या का बड़ा हिस्सा हैजम्मू के राजाओं के अभिलेखों और रिकार्ड (annals) के अनुसार गुलाब सिंह के पूर्वज दो राजपूत भाई थे जो पृथ्वीराज की पराजय के बाद टोही या टोहवी नदी (Tohi or Tohvi river) के किनारे मेघ कहलाने वाले गरीब काश्तकार (cultivators) वंश में बस गएमिस्टर गार्डनर ने उन्हें निम्न जाति का निर्धन वंश कहा हैलेकिन वे टकों के मुकाबले संख्या में अधिक हैंएक अन्य जगह वे उन्हें बहिष्कृतों की निम्नतम जमात में रखते हैंलेकिन यह मेरी सूचना के विपरीत हैइसके अलावा यह उसके उस वर्णन से भी मेल नहीं खाता जिसमें उसने उन्हें "काश्तकारकहा हैयदि वे टकों के समान नहीं हैं तो उनसे बहुत कमतर (inferior) भी नहीं हैंमैं उनका मध्ययुगीन नाम ढूँढने में असफल रहा हूँलेकिन मुझे यकीन है कि हम विश्वसनीय रूप से उन्हें आर्यों के मेकी (Mekei) के तौर पर पहचान सकते हैंजो सारंगीज़ (Saranges) नदी के किनारे उसके हाइड्राओटीज़ (Hydraotes) के संगम के पास रहते थेइस नदी की अभी पक्की पहचान नहीं हुई हैलेकिन क्योंकि इसका उल्लेख हाइफेसिस (Hyphasisया ब्यास के तुरत बाद में हुआ हैइसे सतलुज होना चाहिएसंस्कृत में सतलुज को शतद्रु (Satadru), या "शतधारा)" (hundred channeled) वालीकहा गया हैयह ऐसा नाम है जो टोलेमी के ज़राड्रस (Ptolemy's Zaradrus) और प्लिनी के हेज़ीड्रस (Pliny's Hesidrus) को ठीक-ठाक तरीके से दर्शाता है क्योंकि संस्कृत का 'शत' कई पश्चिमी बोलियों में 'हत' बन जाता हैइसके ऊपरी मार्ग में इसका नाम शत्रुद्र या शतुद्र (Satrudr or Satudr) है जो संस्कृत के 'शतद्रु' का ही बिगड़ा हुआ और सामान्यतः बोला जाने वाला रूप हैतथापि कई ब्राह्मण शतुद्र को सही मानते हैं यद्यपि वे इसे "सौ उदर" (पेट(hundred-bellied) वाले अर्थ से जानते हैंतब इसका नाम 'शतोदर' होना चाहिए थाअब एर्रियन का सारंगीज़ (Arrian's Saranges) प्रत्यक्षतः इन विभिन्न शब्दों के साथ जुड़ा है जैसे शतांग (hundred divisions), शतांग (hundred parts) जिसका अर्थ है सौ विभाजन या सौ अंगजो सतलुज के पर्वतीय क्षेत्र छोड़ने के बाद कई धाराओं में बँटने का संकेत देता हैइस पहचान के अनुसार मेकीया प्राचीन मेघसिकंदर के आक्रमण के समय ज़रूर सतलुज के किनारों पर बस चुके थेइस स्थिति की पुष्टि मेंमैं मेगारसस (Megarsus) का नाम ले सकता हूँ एक नाम जो डियोनाइसिअस पेरीगिटीज़ (Dionysius Periegetesने सतलुज को महान और तीव्र के विशेषणों के साथ दिया था.* ऑइनस (Aoienus) ने नाम को बदल कर सिमेंडर (Cymander) कर दियालेकिन क्योंकि प्रिसियन (Priscianने बिना बदलाव के इसे सुरक्षित रखाइससे लगता है कि हमें माइकेंडर (Mycander) को पढ़ना चाहिएजिसने इसे मूल नाम डियोनाइसियस (Dionysius) के साथ समावेशित कियाअवीनस (Avienus) ने जो भी लिखा होइसकी संभावना सबसे अधिक है कि हमारे पास मेघ कबीले का नाम डियोनाइसियस (Dionysius) के मेगारसस (Megarsus) नदी में सुरक्षित हैदोनों नामों की आपस में तुलना करने परमेरे अनुसार संभव है कि मूल शब्द मेगान्ड्रोस (Megandros) हो जो संस्कृत के शब्द मेगाद्रुया मेघों का दरियाके समतुल्य होगाअब सतलुज के इसी भाग मेंजहाँ यह दरिया पर्वतों से बाहर आता हैहम मखोवाल (Makhowal) शहर पाते हैंमख या मेघ कबीले (Makh or Magh tribe) का शहरकमतर स्थिति वाले किसानों की जमातजो खुद को राजा मुख-तेसर (Mukh-tesar)एक सरसुती ब्राह्मण और मक्का का राजा (Sarsuti Brahman and King of Mecca)का परवर्ती मानते हैंउसी से सहारिया (Sahariya) निकलाजिसे अपने बेटे साल (Sal) के साथ अरब (Arabia) से निकाल दिया गया था और वह पुंड्री द्वीप (Island of Pundri) में आ गए थेअंततः वे बराराजो भठिंडा के पश्चिम में हैमें महमूदसर में आए और वहाँ सत्रह गाँव बसा लिएउसके बाद वे और आगे आए और छुटपुट आव्रजन (immigraionके बाद अब वे पटियालाशाहबादथानेसरमुस्तफाबादसधौरा और मुज़फ़्फ़रनगर में बस गए हैं.* इस वर्णन से हमें ज्ञात होता है कि मेघों की पूर्वतम स्थिति बठिंडा के पश्चिम की ओरअर्थात सतलुज के किनारे पर थीकिस काल में वे इस स्थान से गए वे नहीं जानतेलेकिन यदि, जैसा कि बहुत संभव लगता हैमगियास (Magiaus) जिनका यमुना और गंगा के किनारे तैमूर (Timur) से सामना हुआ वे मघ ही थेसतलुज के किनारों से उनका जाना तुलनात्मक रूप से उससे पूर्व ही हुआ होगाचिनाब के मेघों की परंपरा के अनुसार उन्हें पहले पहल आए मुहम्मदनों (Muhammadans) ने मैदानी इलाकों से खदेड़ा थाएक ऐसा बयान जिसका संदर्भ हम ग्यारहवीं शताब्दी के शुरू में महमूद के अतिक्रमण से या उसके क़रीबी उत्तराधिकारियों के लाहौर पर अंतिम कब्ज़े से ले सकते हैं.

(मूल पाठ में कन्निंघम ने निम्नलिखित से संदर्भ दिए हैं)

* Orljis DcsLTi1itio, V. 1145.
• Smith's Rcv1ning Family of Lahor, p. 232, and Appendix p. xxix. In the text he m.'iti* the " Tukkers" Hindus, but in the Appendix he calls the " Tuk" a " brahman caste." The two names are, however, most probably not the same. t Ibid, pp. 232, 201, and Appendix p. Xxix."


मेरे नोट्स

1. मैंने इस ब्लॉग में नेट पर के जो लिंक दिए हैं उनकी रचना कन्निंघम के बहुत बाद में की गई है. (all links retreived on 7-08-2014 and 09-08-2014)
2. मेघमेघवालमेघवारमेगमेगीमेंगमेंगवालमींगमेखमेकमेकीमेखोमखुमलमल्लमल्लीमल्लोमेगोसमेगस (Magus), मघमागसमेगारससमेदियामेदीज़ या मेडीमद्रमल्लोईमालव, मेंगल आदि एक ही शब्द की विभिन्न क्षेत्रों और भाषाओं में की गई यात्राओं के इतिहास की संभावनाओं से युक्त हैंइन शब्दों के अनेक स्थानीय या परंपरागत स्वरूप होंगे जो इतने अलग स्वरूप के हो सकते हैं जो शायद इनसे मिलते जुलते भी न दिखें जैसे भांबीभगतकबीरपंथीरिखियाआदिइनके अंतर्संबंधों की खोज हमेशा होनी चाहिएकन्निंघम ने उसी का प्रयास किया हैताराराम जी ने किया हैआर.एलगोत्रा जी ने किया है.

3. कन्निंघम ने जिस 'Muhammadans' शब्द का प्रयोग किया है उसका अनुवाद करते हुए एक बार मैं 'मुसलमानलिख गयाबाद में ग़लती का अहसास हुआअब यह काफी स्पष्ट हो चुका है कि भारत की दलित जातियों के जिन लोगों ने इस्लाम स्वीकार किया अधिकतर वे ही मुसलमान कहलाएअन्य बहुत कम हैं.

4. कन्निंघम ने पृथ्वीराज के समय के मेघों को काश्तकार (cultivators) कहा हैलेकिन उसके वर्णन में यह नहीं आया कि वे भूमि के मालिक थेवहाँ स्पष्ट नहीं होता कि उस समय उनके पास भूमि खरीदने और रखने का अधिकार था या नहींसंभवतः उनके भूमि स्वामित्व का अधिकार बाद के समय में छीना गया था जो स्वतंत्रता के बाद पुनः दिया गया.

5. कन्निंघम ने अपने अध्ययन के बल पर विश्वास के साथ इस बात को कहा है कि मेघों को आर्यों के मेकी के तौर पर पहचाना जा सकता हैथोड़ा आगे चल कर उसने मेघों को सुरसती (सारस्वतब्राह्मण भी कहा हैउल्लेखनीय है कि सारस्वत ब्राह्मणब्राह्मणों की कई अन्य शाखाओं से निम्नतर माने जाते हैंदक्षिण भारत में गौड़ सारस्वत ब्राह्मण भी हैं लेकिन उत्तर भारत के गौड़ ब्राह्मण उन्हें अपने समान नहीं मानतेलेकिन आश्चर्य नहीं कि मेघों के मौखिक इतिहास में और अन्य के द्वारा भी यह कहा गया है कि मेघों के रीति रिवाज़ ब्राह्मणों से मिलते-जुलते हैं हालाँकि अन्य ने ऐसा तभी कहा जब मेघों को सरकारी सहायता से वंचित कराने की नीयत थीकोई उन्हें ब्राह्मण जाति का मान कर पेश नहीं आता था बल्कि उनके साथ अमानवीय व्यवहार होता था.

6. कन्निंघम ने कहा है कि मेघ सतलुज के किनारों से हो कर जमुना-गंगा के किनारों पर कब बसेमेघ/मेद यह नहीं जानतेप्राप्त जानकारी के अनुसार तैमूर से उनका सामना सन् 1398 के आसपास हुआ होगा जब उसने दिल्ली पर आक्रमण किया था.कन्निंघम ने विचार प्रकट किया है कि मेघों का यह पलायन तैमूर के आने से काफी पहले हो चुका थायह सही लगता हैयहाँ उल्लेखनीय है कि मेदों और जाटों का एक संघर्ष सिंध/बलोचिस्तान के क्षेत्र में हुआ था जिसे आप इस लिंक पर देख सकते हैं-Medsयह लिंक 'जाटलैंड विकि' का हैयद्यपि आँख मूँद कर इसे अंतिम तथ्य के रूप में स्वीकार नहीं किया जा सकता क्योंकिइसके नाम से ज़ाहिर है इसके कई या कुछ अंश 'आत्मगौरव (self pride)' के लिए भी लिखे हो सकते हैं जिसमें अन्य को तथ्यात्मक प्रतिनिधित्व देने का प्रयास हो यह ज़रूरी नहींमोटे तौर पर यह मेघ-जाट संघर्ष सन् 1026 से पहले ही हुआ होगा क्योंकि इसे रिकार्ड करने वाली संदर्भित पुस्तक का पर्शियन अनुवाद 1026 में हुआ थाअतः स्पष्ट है कि मेघ-जाट संघर्ष तैमूर के आगमन से पूर्व की घटना है और संभावना बनती है कि उसके बाद ही मेघ दिल्ली-मेरठ के पास जमुना-गंगा के क्षेत्र में गए होंगे.

7. कन्निंघम ने जिस पृथ्वीराज का उल्लेख किया है उसका संदर्भ मुझे स्पष्ट नहीं हो पाया है.

8. जाँच करने की आवश्यकता है कि मेगांद्रोज़ (Megandros) शब्द के मेघेंद्र शब्द से से बने होने की कितनी संभावना हैमेघेंद्र शब्द बुद्ध के लिए प्रयोग हुआ है जिसका अर्थ है मेघों का राजा.

9. एक बात और ध्यान देने योग्य है कि कन्निंघम ने यदि जानकारियाँ प्राप्त करने के लिए पढ़े-लिखे स्थानीय लोगों की सहायता ली होगी तो उसके आसपास मुख्यतः ब्राह्मण ही उपलब्ध होंगे जिन्होंने एकतरफा इतिहास की सही-ग़लत जानकारी और सूचनाएँ उसे दी  होंगीशिक्षा का अधिकार न होने के कारण मेघों के अशिक्षित होनेउनका अपना लोक साहित्य लगभग न होनेइतिहास की कोई मौखिक परंपरा न होने के कारण कन्निंघम द्वारा रिकार्ड की गई जानकारी का विस्तृत और समुचित तथ्यों से युक्त होना संभव नहीं था.

10. कन्निंघम ने सतलुज के पास मेघों के बठिंडा के पश्चिम (पंजाबी में इसे 'लहिंदे पासे'  कहा जाता हैमें बसे होने का बात कही हैसंभावना है कि मेघ यहाँ से होते हुए राजस्थान में भी गए होंगेफिरोज़पुर सहित इस क्षेत्र में मेघों को मेघवाल के नाम से भी जाना जाता हैमेघवाल शब्द का संबंध प्रकारांतर से कश्मीर के राजा रहे महामेघवाहन या मखोवाल से भी सकता हैताराराम जी मानते हैं कि मेघवाल शब्द महामेघवाहन से निकला हो सकता है.


भारत भूषण भगत



MEGHnet  

No comments:

Post a Comment