Wednesday, September 3, 2014

58. Megh : Mayo Megh another tell

अब मारवाड़ मर्दुम शुमारी का विवरण देखिये- "----राजा सिद्ध राज सोलंकी ने पाटन में एक तालाब बनाया था मगर उसमें पानी नहीं ठहरता था। जिससे राजा को बड़ी उदासी रहा करती थी। एक दिन किसी ने उससे कहा कि घाट में (जहाँ अब उमर कोट बसता है) होडल नाम का एक ज्योतिषी रहता है, उसे बुलाओ; वह कुछ टोटका पानी रहने का बता देगा। राजा ने उसे बुलाकर पूछा तो उसने कहा कि यह तालाब बहुत बुरी घडी में बना है। अब जो राजा खुद इसकी पाल पर जले या पाटवी कँवर या रानी का होम करे तो पानी ठहरे। राजा के पहले एक लड़का हुआ था लेकिन वह खूबसूरत नहीं था। जिससे राजा ने घूरे पर फिंकवा दिया था। उसको सालवा नाम का एक बाम्भी उठाकर अपने घर ले गया था और फिर पाटन छोड़कर घोलक में जा रहा था। होडल ने राजा को उसकी याद दिलाई। राजा ने उसको बुलाया। वह आया और जलने को तैयार हुआ--------"

(सन्दर्भ: रिपोर्ट-मर्दुम शुमारी राज मारवाड़-1891., पृष्ठ536)


1 comment: